पेट तक


मैं आते-जाते रोज देखता हूं
बस के पीछे भागते नन्हे कदम
बस रुकते ही चढ़ जाते हैं जो
नीले, पीले, गुलाबी, सफेद परचे लिए
जिन पर अंकित रहती हैं 
उनकी गरीबी बयानती चंद पंक्तियां
वह षब्दों से अनजान
परंतु उनकी हकीकत से वाकिफ है

मैले खूब मैले
फटे पुराने कपड़े पहने
बस में चढ़ते ही फैला देती वह 
एक अजीब सी गंध
और हर हाथ में थमा देती है वही
रंग-बिरंगे परचे 
ताकि समझ पाए लोग 
उसकी दास्तां उसकी पीड़ा 
मात्र कुछ शब्दों से ही

हाथ जोड़, आंखों में आंसु लिए
रोज पांव छुकर गिड़गिड़ाना
ताकि भर सके वह 
अपना और अपनों का पेट
यह दिनचर्या है उसकी
उसकी जिंदगी का सच 
कड़वा सच

आज मेरे पूछने पर 
‘कंहा तक पढ़ी हो बेटी’
‘पेट तक बाबू जी’..............

बस के एक झटके के साथ 
सफर षुरु हुआ फिर........
हड़बड़ाहट में निकल गए बाहर
वह नन्हे मैले कदम
छूट गए पीछे कुछ रंगीन परचे
कुछ अनकहे सवाल
कुछ अनसुने जबाव
और फिर बढ़ता ही गया फासला 
उन नन्ही आंखों और
उन अनबुझे सवालों के बीच।

पवन चौहान
गांव व डा0 महादेव
तहसील-सुन्दरनगर, जिला-मण्डी
हिमाचल प्रदेष- 175018
मो0098054 02242, 094185 82242

0 comments:

Post a Comment